This Nazm is dedicated to all those childhood friends, who were really appreciable and with Golden hearts 💖.

ऐ मेरे रफ़ीक़, मेरे दोस्त, मेरे हमदम तेरा मुझसे यूं दूर चले जाना है मानों ज़िन्दगी है एक घने अँधेरे बयांबाँ की तरह मानों एक लम्बी रहगुज़र है और मैं चला जा रहा हूँ बस कहीं अनजान की तरह मानों एक ख़रीद वो फ़रोख़्त की दूकान है और मैं पड़ा हूँ धुल में लिपटे हुए … Continue reading This Nazm is dedicated to all those childhood friends, who were really appreciable and with Golden hearts 💖.

Advertisements

यौम -ए- आज़ादी    Happy Independence Day

वतन परस्ती सिखा देती है जशने आज़ादी क़दीम किस्से याद दिला देती है जशने आज़ादी हमारे बाबा ओ अजदाद कि वो क़ुरबानियाँ वो मिटटी में दफ़न अन्गिनत कहानियाँ हर पुराने ज़ख़्म ताज़ा करा देती है जशने आज़ादी सब्र , ख़लूस , मुहब्बत , सारे अवराक़ पढ़ा देती है जशने आज़ादी ये ख़ालिस परचम ए तिरंगा … Continue reading यौम -ए- आज़ादी    Happy Independence Day

 Ek Khwaab Aisa bhi !

​Hello Friends, this is my first post and I am sure you all will find my write ups quite different, as in my poems you will get fragrance of Hindi,Urdu and Persian words. It is all about imagination, a beautiful, colorful dream of a poet, who likes to play with her words. So here it … Continue reading  Ek Khwaab Aisa bhi !