Ek Khwaab Aisa bhi !

Hello Friends, this is my first post and I am sure you all will find my write ups quite different, as in my poems you will get fragrance of Hindi,Urdu and Persian words. It is all about imagination, a beautiful, colorful dream of a poet, who likes to play with her words. So here it is …….


 Ek Khwaab Aisa bhi. khyaali-khwaaab


मैंने बंद आँखों, में सुरमा लगा कर उनमें रँगीन, ख़याली ख़वाब सजाए

कभी चाँद की नाव पर पालती मार कर उन् ठंडी , चांदनी झीलों को पार लगाए

फिर तारों की माला को लरि बना कर अपनी बज़्म ए सुख़न में लफ़्ज़ों के हार बनाए

फिर फूलों का रस रकाब(pot) में ले कर शरबती अऱख से गुलु (throat ) को भिगाए

भंवरों की गुनगुनाहट को कैद कर कर गोशों(ears) के लिए शीरीन नगमें बनाए

चलते चलते, कहकशां कि सेज सजा कर परियों को अपने दिल के हाल सुनाए

मैंने बंद आँखों, में सुरमा लगा कर उनमें रँगीन, ख़याली ख़वाब सजाए

नाज़ .


 Hope you all have enjoyed while reading. Thank you so much

Naz

Advertisements

6 thoughts on “ Ek Khwaab Aisa bhi !

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s